अलर्ट रहें: अक्सर खट्‌टी डकार और सीने में जलन रहना कैंसर का खतरा बढ़ाता है, गले और आहार नाल में कैंसर के 17% मामलों ऐसे लक्षण दिखे

अलर्ट रहें: अक्सर खट्‌टी डकार और सीने में जलन रहना कैंसर का खतरा बढ़ाता है, गले और आहार नाल में कैंसर के 17% मामलों ऐसे लक्षण दिखे

  • हिंदी समाचार
  • सुखी जीवन
  • खट्टी डकार और सीन मुझे जालान (हार्ट बर्न); एसिड भाटा क्या है? रोग से कैंसर और कैंसर के खतरे बढ़ सकते हैं

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

13 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

अक्सर खट्‌ट डकार और सीने में जलन महसूस करते हैं तो प्रकट हो जाएं। ये लक्षण कैंसर का खतरा बढ़ाते हैं। अमेरिकन कैंसर सोसायटी जर्नल में पब्लिश एक रिसर्च के मुताबिक, ऐसे लक्षण अधिक दिखते हैं तो गले और डाय नाल के कैंसर होने का खतरा रहता है। वैज्ञानिकों का दावा है कि गले और मधुमेह नाल में कैंसर के 17 प्रति मामले में एसिड रिफ्लक्स के रोगियों में नजर आई।

रिसर्च कहती है, अमेरिका में 20 प्रति लोग एसिड रिफ्लक्स से जूझते हैं। ऐसा होने पर खट्‌ट डकार आना और छाती में जलन महसूस होती है।

एसिड रिफ्लक्स क्या होता है, ऐसा क्यों होता है, कौन से लक्षण दिखने पर प्रकट हो जाएं और इसका इलाज क्या है, जानिए सवालों के जवाब में ….

क्या होता है एसिड रिफ्लक्स
जयपुर के एमएमएस अस्पताल के गेस्ट्रोएंट्रोलॉजिस्ट डॉ। सुधीर महर्षि कहते हैं, एसिड रिफ्लक्स को पूर्वानुमानोइसफेगल रिफ्लक्स डिसीज भी कहा जाता है। जब फूड पाइप का अंतिम छोर को खोलना और बंद करने वाली पेटियां ठीक से काम नहीं करतीं तो पेट में बनने वाला एसिड मुंह तक वापस चला जाता है। इसे एसिड रिफ्लक्स कहते हैं ऐसा होने पर खट्‌ट डकारें आती हैं।

gerd concept13 1614076598
gerd concept12 1614076613
gerd concept14 1 1614076622

अब बात मानने की, ये 5 बातें हमेशा ध्यान रखती हैं
डॉ। सुधीर महर्षि कहते हैं, हमेशा ऐसी चीजों से दूर रहें जो एसिड रिफ्लक्स की वजह बनते हैं। अपनी लाइफस्टाइल में कुछ चीजों को ध्यान में रखकर चलते हुए गया हो सकता है।

1- जितनी भूख हो उतना ही खासी हो। चाहते हैं तो यह टुकड़े में बांट खा सकते हैं। उनके बीच कुछ समय का अंतर रखें।
2- खाना खाने और सोने के बीच 2 से 3 घंटे का अंतर रखें। खाना खाने के तुरंत बाद लेटने से लेकर।
3- 3- बहुत अधिक शूस्ट कपड़े और टाइटन बेल्ट का इस्तेमाल न करें। इसका असर दोष पर भी पड़ता है।
4- अल्कोहल से दूरी बनाएं। भोजन में सोडा ड्रिंक्स, कॉफी और चाय को कम करें।
5- अगर मोटापे से जूझ रहे हैं तो वजन को घटाने की कोशिश करें।



Source link

Scroll to Top