इजरायल में तेल रिसाव का असर: समुद्र तट पर तारकोल में सने नजर आए कछुए, जानिए इन्हें क्यों खिलाया जा रहा मेयोनीज और वनस्पति तेल

इजरायल में तेल रिसाव का असर: समुद्र तट पर तारकोल में सने नजर आए कछुए, जानिए इन्हें क्यों खिलाया जा रहा मेयोनीज और वनस्पति तेल

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

येरुशलम4 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

इजरायल में हुए तेल रिसाव से समुद्री जीव बुरी तरह जूझ रहे हैं। समुद्र में तेल भरने के कई दिन बाद भी इसका सटीक कारण पता नहीं चल पाया पाया गया है। कहा जा रहा है कि इसकी वजह जहाज से तेल का रिसना हो सकती है।

समुद्र तट के किनारे तक पहुँचने के सैकड़ों कछुए तारकोल से सने नजर आ रहे हैं। इजरायल का राष्ट्रीय सी टर्टल रेस्क्यू सेंटर उन्हें बचाने में जुटा हुआ है। रेस्क्यू सेंटर के मेडिकल असिस्टेंट गाय इवगी का कहना है, तेल भरने होने के कारण कछुओं पर काले तारकोल की मोटी लेयर बन गई है।

कछुओं को सीरंज की मदद से मेयोनीज खिलाई जा रही है।

कछुओं को सीरंज की मदद से मेयोनीज खिलाई जा रही है।

मेयोनीज कछुओं में जमे हुए टार को निकालेगा
इवगी कहते हैं, कछुओं के गले तक टार भर चुकी है। हम उन्हें मेयोनीज और वनस्पति तेल खिला रहे हैं जो उनके शरीर की सफाई करने का काम करेगा। यह शरीर में जमे हुए टार को भी बाहर निकालने में मदद करता है।

इवगी के मुताबिक, इनकी रिकवरी में लगभग 2 सप्ताह का समय लगेगा। इसके बाद उन्हें बैक जंगलों में छोड़ दिया जाएगा। अब तक 11 कछुओं का इलाज किया जा चुका है।

195 किमी के दायरे में फैला टार

कछुओं को बचाने के लिए सैंकड़ों वालंटियर्स जुटे हुए हैं। इजरायल के पर्यावरण संरक्षण मंत्रालय का कहना है, जांच के जरिए पता लगाया जा रहा है कि समुद्र में तेल कितना फैला है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, फरवरी की शुरुआत में तेल फैलना शुरू हुआ था। समुद्र में यह टार लगभग 195 किलोमीटर के दायरे में फैला है। समुद्रतटों और आसपास के हिस्से में लगातार सफाई की जा रही है।

अब तक 11 कछुओं का इलाज किया जा चुका है, उनमें रिकवर होने में दो हफ्तों का समय लग सकता है।

अब तक 11 कछुओं का इलाज किया जा चुका है, उनमें रिकवर होने में दो हफ्तों का समय लग सकता है।

गंध से बीमार हुए लोग अस्पताल में भर्ती

इजरायल के ‘नेचर और पार्क्स अथॉरिटी’ ने इस घटना को आपदा करार दिया है, जिससे समुद्री जीव-जंतुओं के लिए खतरा पैदा हो गया है। कई एनजीओ तेल की परत हटाने में जुटे हैं, लेकिन इनमें से कई लोग इसकी गंध के कारण बीमार हो गए हैं जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है।]

समुद्रतटों पर कुछ इस तरह से तारकोल से सने नजर आ रहे हैं कछुए।

समुद्रतटों पर कुछ इस तरह से तारकोल से सने नजर आ रहे हैं कछुए।

खबरें और भी हैं …



Source link

Scroll to Top