टॉप न्यूज़

साउथ कोरियाई वैज्ञानिकों का प्रोटोटाइप: सांसों की दुर्गंध पता लगाने वाली डिवाइस, इस पर फूंकें और ऐप बताएगा दुर्गंध की समस्या है या नहीं; जानिए ऐसा होता क्यों है

  • हिंदी समाचार
  • सुखी जीवन
  • अंगूठे के आकार का ‘सूँघने वाला’ सेंसर यह पता लगा सकता है कि आपकी साँस की हवा में हाइड्रोजन सल्फाइड का परीक्षण करके आपकी सांस खराब है या नहीं

42 पहले

  • लिंक लिंक
  • का दावा करने के लिए, अब दुर्गंध का पता लगाने के लिए
  • दुर्ग तरह होगादृ्️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

एब एक के साथ मदद से यह पता चलने के लिए ️दुर्ग️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है है है है हैं है हैं है है है है है है है है है है है है है है हैं है है है है है है है है हैं है है हैं है है है है है है है है है है है है मौसम के मामले में मौसम के मौसम की स्थिति में मौसम की स्थिति अपडेट होती है, जब मौसम की स्थिति में ऐसा होता है कि मौसम की स्थिति में ऐसा होता है कि मौसम की स्थिति में ऐसा ही होता है। ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ दुर्ग . ऐसा नहीं है।

दुर्ग का ऐसा पता लगा है I VIDEOS LIVE TV और देखें ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है है है है है
वैज्ञानिकों का कहना है, मुंह और सांस में गंध के लिए हाइड्रोजन सल्फाइड गैस जिम्मेदार होती है। जो प्रचार में है। दुर्गंध का पता लगाने के लिए इंसान को डिवाइस में फूंकना पड़ता है। इस तरह की घटनाओं को महसूस किया गया है। लागू करने के लिए खतरनाक है एप्लिकेशन पर लागू होने पर सुरक्षित है।

दुर्गंध की समस्या को हल करने के लिए ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️
इसे तैयार करने वाले सैमगंस इलेक्ट्रॉनिक्स और कोरिया एडवांस्ड इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के वैज्ञानिकों का कहना है, नई डिवाइस की मदद से मरीज इस दुर्गंध की समस्या का शुरुआती दौर में इलाज करा सकेंगे। इस समस्या संबंधी विज्ञान में हेलीटाइरपिटरी है ।

यह समीक्षा समय में जाँच करता है। इसके हाइड्रोजन सल्फाइड गैस शरीर में बनती है और सड़े हुए अंडे की तरह महसूस होती है।

डिवाइस बाजार  एक बार फिर से जांच करने के लिए एक स्थान पर भेजा गया है जहां से जांच की जा सकती है।' ‍न्‍यं ।

डिवाइस बाजार एक बार फिर से जांच करने के लिए एक स्थान पर भेजा गया है जहां से जांच की जा सकती है।’ ‍न्‍यं ।

प्रदूषण की वजह से, प्रदूषण भी बदल रहा है️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️
वैज्ञानिकों का कहना है, पहले भी ऐसी डिवाइस बनी थी, लेकिन दुर्गंध की जांच के लिए लैब में एक महंगे इंस्ट्रूमेंट पर निर्भर रहना पड़ता था, जो आम इंसान के लिए संभव नहीं है। नया से भी कोई भी जांच कर सकता है। डिवाइस️ भी️ डिवाइस️ डिवाइस️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

८६ दशमलव तक
यह दावा करने का दावा है। इसे शीघ्र ही बाजी मारी। एक बार फिर से जांच करने के लिए एक स्थान पर भेजा गया है जहां से जांच की जा सकती है।’ ‍न्‍यं ।

खबरें और भी…

Source link

Scroll to Top